Akbar birbal ki kahani

Akbar birbal ki kahani, अकबर बीरबल और जादूगर की गुफा की कहानी

Akbar birbal ki kahani

Akbar birbal ki kahani, अकबर बीरबल और जादूगर की गुफा की कहानी, बीरबल जी को कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था जब उनकी आंखें खुली तो वह एक गुफा में थे जबकि वह घर में सोए हुए थे यह बात उनकी बिल्कुल भी समझ में नहीं आ रही थी कि वह अचानक ही इस गुफा में कैसे आ गए थे बीरबल जी परेशान हो रहे थे वह गुफा से निकलना चाहते थे

Akbar birbal ki kahani : अकबर बीरबल और जादूगर की गुफा की कहानी

Akbar birbal ki kahani
Akbar birbal ki kahani

but उन्हें कोई भी रास्ता नजर नहीं आ रहा था जो कि गुफा का मुख्य द्वार उनके सामने था but वह उस द्वार तक नहीं पहुंच पा रहे थे birbal जी के मन में बहुत सारे विचार चल रहे थे यह गुफा जादुई गुफा लग रही है क्योंकि इसका दरवाजा मुझसे खुल नहीं रहा है यह कैसे हो सकता मुझे यहां पर कौन आया होगा birbal जी को कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था तभी birbal जी एक आदमी की आवाज सुनते हैं आदमी आगे बढ़ता हुआ रहा था but गुफा का दरवाजा उसके आते ही खुल गया था और वह अंदर आ चुका था

 

वह birbal जी को देख रहा था वह कह रहा था कि मुझे लगता है कि आप जाग गए हैं birbal जी उससे कहते हैं कि तुम कौन हो तुम मुझे यहां पर क्यों लाए हो तभी वह कहता है कि मैं जादूगर हूं और जादू के कार्यक्रम दिखाता हूं इसलिए मुझे आपकी आवश्यकता है अगर आप मेरी मदद करेंगे तो मैं आपको यहां से जाने दूंगा मुझे बहुत सारा धन चाहिए उसके लिए मुझे akbar से मिलना होगा और धन की मांग करनी होगी मुझे पता है akbar आपके बदले में बहुत सारा धन मुझे दे देंगे

राजा और बंदर की कहानी

birbal जी को सब कुछ समझ में आ गया था कि वह क्या चाहता है तभी birbal जी कहने लगे कि akbar आपको ऐसे धन नहीं देंगे जब तक तुम मेरी योजना के अनुसार नहीं चलते हो तब तक तुम्हें कुछ भी नहीं मिलने वाला वह जादूगर कहता है कि इस गुफा से निकलना आसान नहीं है यह जादुई गुफा है यहां पर कोई भी सैनिक मेरी मर्जी के बगैर नहीं आ सकता है और आप भी यहां से नहीं जा सकते हैं पहले मुझे akbar से मिलना होगा और आप मुझे कुछ ऐसी निशानी दीजिए

 

जिसकी वजह से akbar को यकीन हो जाए कि आप मेरे पास है birbal जी अपनी एक अंगूठी जादूगर को देते हैं और कहते हैं कि अगर आप इसे दिखा सकते हैं तो अकबर समझ जाएंगे कि आपके पास मैं हूं but मैं आपको एक बात यह बताना चाहता हूं कि akbar आपको धन नहीं देंगे क्योंकि जब तक आप मेरी योजना के अनुसार नहीं चलेंगे आपको कुछ भी मिलने वाला नहीं है जादूगर को कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था कि है क्या हो रहा है जादूगर birbal जी से कहते हैं कि आप ऐसा क्यों कह रहे हैं तभी birbal जी कहते हैं कि आपको धन की जरूरत है मुझे भी धन की बहुत जरूरत है

परियों की दो नयी हिंदी कहानी

but akbar मुझे भी धन नहीं देते हैं तो आपको कहां से दे पाएंगे अगर हम दोनों मिल जाए तो akbar से बहुत सारा धन निकाल सकते हैं और इस तरह आपको भी धन मिल जाएगा और मेरी समस्या भी दूर हो जाएगी जादूगर को तो birbal की बातों पर यकीन ही नहीं हो रहा था क्योंकि उसे तो लग रहा था कि birbal जी अकबर के बहुत नजदीक है और उनको बहुत पसंद करते हैं but यहां पर तो मामला ही दूसरा नजर आ रहा है जादूगर birbal जी की बात मान जाता है और दोनों ही akbar से धन लेने के लिए चले जाते हैं

 

वह अंगूठी akbar को दिखाता है उसके बाद जादूगर केहता है कि बीरबल जी मेरे पास है अगर तुम चाहते हो कि उसे बीरबल को यहां पर लाया जाए तो आपको मुझे धन देने की जरूरत है अगर तुमने मुझे धन नहीं दिया तो बीरबल जी यहां पर नहीं आ सकते हैं akbar कहते हैं कि birbal जी को आपने कहां पर रखा हुआ है आपको ऐसा नहीं करना चाहिए अगर आप ऐसा करते हैं तो हो सकता है कि आगे जीवन में आपको परेशानी का सामना करना पड़े जादूगर कहता है कि आपको मेरी परेशानी से कोई मतलब नहीं है

कौवा और चिड़िया की दोस्ती की कहानी

मुझे धन चाहिए अगर आप मुझे धन दे सकते हैं तो मैं birbal को यहां पर लेकर आ सकता हूं akbar ने अपने सेनापति को बुलाया और कहा कि इनकी जो भी इच्छा है पूरी की जाए उसके बाद birbal जी दरबार में आ जाते हैं जादूगर को पकड़ लिया जाता है जादूगर कहता है कि तुम तो akbar के साथ मिले गए हो मुझे तुम पर यकीन नहीं करना चाहिए था इस तरह birbal की वजह से जादूगर पकड़ा गया था उसके बाद राजा अकबर पूछते कि यह सब क्या हो रहा है तभी बीरबल जी कहते हैं कि जब मैं रात को सोया हुआ था

 

यह जादूगर मुझे अपनी जादुई गुफा में ले गया उसके बाद मुझसे सौदा करने लगा but मैंने अपनी बातों में उलझा कर जादूगर को भी यहीं पर ही बुला लिया और उसे पकड़वा दिया गया और इस तरह akbar कहते हैं कि अगर आप अपने दिमाग से काम नहीं लेते तो शायद आज हमारा बहुत सारा धन जादूगर ले जाता इस तरह बीरबल की वजह से राजा का धन बच गया था और राजा ने बीरबल को इनाम दिया अगर आपको अकबर और बीरबल की कहानी (akbar birbal ki kahani) पसंद आई है तो आगे भी शेयर करें कमेंट करके हमें बताएं

 

अकबर की चालाकी की कहानी  : Akbar birbal ki kahani 

birbal जी किसी काम से अपने गांव जा रहे थे तभी उन्होंने देखा कि रास्ते में बहुत से लोग उन्हीं की ओर आ रहे थे birbal जी ने उनसे पूछना चाहा कि तुम लोग कौन हैं तभी वह birbal जी को पकड़ कर अपने साथ ले गए बीरबल जी पकड़े जा चुके थे इस बात की खबर akbar को नहीं थी

 

birbal जी परेशान थे क्योंकि अकबर को जब यह पता चलेगा कि birbal जी काफी दिनों से नहीं आ रहे हैं तो उन्हें बहुत गुस्सा आएगा भी बीरबल जी उन सभी लोगों से पूछते हो कि आप लोग मुझे यहां पर क्यों लाए हैं वह सभी कहते हैं कि हमें धन की बहुत जरूरत है इसलिए हमें धन प्राप्ति के लिए आपको यहां पर रखना होगा और akbar से इस तरह की मांग करनी होगी जिसके बाद हमें बहुत सारा धन मिलेगा birbal जी अब समझ गए थे कि यह लोग धन के लालच में मुझे यहां पर पकड़ कर लेकर आए

 

but मुझे यहां से बचना चाहिए but बीरबल जी को भी कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा बीरबल जी सोच रहे थे कि मुझे किसी जगह की तलाश करनी होगी उसके बाद कुछ लोग अकबर के पास जाते हैं और कहते हैं कि birbal जी को पकड़ा जा चुका है अगर आप चाहते हैं कि वह सही सलामत यहां पर आ जाएं तो हमें धन चाहिए अकबर को जब यह बात पता चलती है तो वे सैनिकों से कहते हैं कि इन्हें पकड़ लिया जाए उन्होंने birbal जी को पकड़ कर अपने पास रखा है

खरगोश शेर और कछुआ की कहानी

आदमी कहते हैं कि अगर आप ऐसा करते हैं तो birbalजी को आप कभी भी देख नहीं पाएंगे इस तरह अकबर जी परेशान हो जाते हैं क्योंकि वह समझ नहीं पाते हैं कि बीरबल जी कहां पर गए हैं उधर birbal जी उस जगह से निकलने के लिए अपनी पूरी कोशिश कर रहे थे कुछ समय बाद ही बीरबल जी वहां से निकलने में कामयाब हो गए हो सीधे दरबार की ओर जा रहे थे कि अब उन्हें पता था कि वह लोग वहीं पर गए होंगे उधर akbar उनसे पूछ रहे थे कि तुम्हें कितने धन की आवश्यकता है

Akbar birbal ki kahani

तभी birbal जी वहां पर पहुंच जाते हैं और उन लोगों को पकड़ लिया जाता है वे आदमी कहते हैं आप कैसे बच कर आ गए तभी बीरबल जी कहते हैं कि आप किसी भी जगह से आसानी से निकल सकते हैं यह बात तुम्हें समझ में नहीं आ सकती उन लोगों को पकड़ लिया जाता है और उनके साथियों को सजा देते हैं इस तरह बीरबल अपनी चालाकी से बच गए थे, अगर आपको अकबर और बीरबल की कहानी पसंद आई है तो आगे भी शेयर करें कमेंट करके हमें बताएं.

 

Akbar birbal ki kahani : बीरबल की मदद की कहानी 

akbar birbal के पास जाता है वह उनसे कहता है की मुझे आपकी मदद चाहिए अकबर कहते है की आप हमसे कह सकते है Because हम जानते है की आप जरूर कोई जरुरी बात कर रहे हो, birbal कहते है की मेरे पास एक आदमी आया था उसे धन की जरूरत थी, but सबसे पहले आपको पता होना चाहिए की वह धन क्यों मांग रहा था अकबर कहते है की मुझे आप बताये, बीरबल कहते है की वह बहुत गरीब है,

 

उसके पास कुछ भी नहीं है वह मदद चाहता है इसलिए में आपके पास आया था, akbar कहते है की मुझे लगता है की जो भी गरीब है, और मदद चाहता है उसे मदद मिलनी चाहिए, अकबर उस आदमी से मिलते है उसके बारे में पूछते है क्योकि वह भी जानना चाहता है की वह आदमी धन की मांग क्यों कर रहा है वह आदमी कहता है की मुझे धन इसलिए चाहिए Because मेरे पास धन की बहुत कमी है जिसकी वजह से मेरे पास अब कुछ भी नहीं है,

Akbar birbal ki kahani

akbar birbal से कहते है की इन्हे धन देना चाहिए Because में समझ गया हु की इसे धन की जरूरत है, उसके बाद उसे धन दिया जाता है वह धन लेकर घर की और जाता है Because उसे यह सब कुछ बीरबल की वजह से मिला है, बीरबल कहते है की आपको कुछ भी कहने की जरूरत नहीं है हम सभी को मदद करनी चाहिए, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो शेयर करे

Read More Hindi story :-

राजकुमारी और राजकुमार की दो नयी कहानी

मोटू और पतलू की नयी दूकान की कहानी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!